ज्ञान ही वास्तविक सोना और हीरा है। - स्वामी शिवानन्द