माली आवत देख के, कलियाँ कहें पुकार।
फूले फूले चुन लिए, कालि हमारी बार॥ - संत कबीर