जैसा सुख-दुख दूसरे को दिया जाता है, वैसा ही सुख-दुख उसी के परिणाम स्वरूप स्वयं को प्राप्त होता है ।