मुखमंडल हृदय का दर्पण है। - प्रेमचंद