हर कदम फूंक कर रखो, सुखी रहोगे। - अरस्तु