दया मनुष्य का स्वाभाविक गुण है। - प्रेमचंद