जीना भी एक कला है, बल्कि कला ही नहीं तपस्या है। - हजारी प्रसाद द्विवेदी