ज्ञान की अग्नि सुलगते ही कर्म भस्म हो जाते हैं। - शंकराचार्य