भाग्य पर वह भरोसा करता है, जिसमें पौरुष नहीं होता। - प्रेमचंद