कोई बिरला ही जानता है कि माया और छाया एक-सी हैं। भागते के पीछे फिरती हैं और जो पीछे पड़ता है उसके आगे भागती हैं। - कबीरदास