कण-कण जुटाने पर ही घोंसला बनता है। - कौटिल्य