अथक क्रिया शीलता ही पुरूषार्थ का लक्षण है