आज का पुरुषार्थ ही कल का भाग्य है। - पाल शिरट