सज्जनों का कार्य दूसरों के दुख दूर करने के लिए ही होता है ।