सज्जन स्वयं ही दूसरे के हित के लिए उद्यम करते है, उन्हें किसी के द्वारा याचना की प्रतिक्षा नहीं होती । - भतृहरि