कपटी एक न एक दिन पतन की खाई में गिरता है। - विदुर