मनुष्य अपने आनंद का निर्माता स्वयं है। - थोरो