खाने और सोने का नाम जीवन नहीं। जीवन नाम है सदैव आगे बढ़ने का। - प्रेमचंद